Skip to main content

' भागीदारी व्यवस्था के संस्थापक छत्रपति साहू जी महाराज ''

'' भागीदारी व्यवस्था के संस्थापक छत्रपति साहू जी महाराज ''

छत्रपति साहू जी महाराज को आरक्छन व्यवस्था का जनक कहा जाता है ! उनके राज्य काल में ,उस समय की ब्राह्मणवादी व्यवस्था के कारन उनके राजदरबार में ब्राह्मण दरबारी अधिक थे ,कामकाज उन्ही के हवाले रहता था ,साहूजी महाराज के रसोई का संचालक एक ब्राह्मण था !एक बार साहूजी महाराज रसोई की ओर गये ,वहां पर किसी को न देख कर उन्होने रसोई से पानी निकलकर पी लिया ,इतने में रसोई का संचालक उन्हें देख लिया ! जब महाराज वहां से चले गए तो ,उस रसोइये ने रसोईघर को गंगाजल से धोकर पवित्र किया ,इस बात की जानकारी जब राजा को मिली ,तब उनके मन में विचार आया की मेरे रसोई में जाने से रसोई कैसे अपवित्र हो गई जो उसे गंगाजल से पवित्र करना पड़ा ! इस बात का अध्ययन करते हुए उन्हें आत्म अनुभूति हुई पिछला इतिहास खोजने पर पाया की ,मेरे पूर्वज छत्रपति शिवाजी भी इसी तरह अपमानित हुए थे ! कहा जाता है की छत्रपति शिवाजी जब आसपास के राज्यो में अपना अधिपत्य कर लिया था ,छत्रप हो गए थे ,तब उनके राज्याभिषेक का अवसर आया तब उनके राज्याभिषेक के लिए ब्राह्मण द्वारा तिलक किये जाने का रश्म पूरा होना था ,तब महारास्ट्र के सभी ब्राह्मणों ने उनके तिलक का विरोध करते हुए यह कह दिया था की ,भले वे कितने ही राज्य जीत लें लेकिन वे शुद्र हैं ,इसलिए हम उनका राज्याभिषेक तिलक नहीं कर सकते ? ऐसी स्तिथि में राज्य के बाहर बनारस से एक तीसरी श्रेणी के बाह्मण को लाने का परयास किया गया ? कारण यह था की उस काल में यह परम्परा थी की ब्रह्मण के द्वारा तिलक को ही मान्यता थी , बनारस के उस तीसरे दर्जे के बाह्मन का भी महारास्त्र के बह्म्नो ने विरोध किया था लेकिन उस तीसरे दर्जे के बहमन ने अपना विरोध देखकर तिलक करने के लिए शर्त रख दी की मैं तिलक तभी करूँगा जब मुझे मेरे वजन के बराबर सोना दान करेंगे !अंततः कार्यकर्म  निर्धारित हुआ ,तिलक का रश्म प्रारम्भ हुआ ,तब उस बह्मण ने उपुक्त समय में कह दिया की मैं तिलक कर रहा हूँ लेकिन बाएं पैर के अंगूठे से करूँगा चूकि राजा चौथे वर्ण के प्रतिनिधि हैं ,जिसका मनु महाराज ने पैर का प्रतीक दिया है इसलिए मै धर्म के विरुद्ध नहीं जा सकता ,इन परिस्तिथियो में उसने अपने बाएं पैर के अंगूठे से छत्रपति शिवाजी का राज्याभिषेक हुआ ! यही सब जानकारियां हासिल करके साहू जी महाराज को बहुत ग्लानी हुई ! हमारा राज्य हमारी ताकत और हम केवल ब्राह्मण पर आश्रीत हैं , यह सब शिक्छा की कमी का परिणाम है ,भागीदारी की कमी का परिणाम है ! इसलिए उन्होने अपने राजकाज में ब्रह्मणो के आलावा ५० प्रतिशत कथित निम्न समाज को राजकाज में भागीदारी सुनिश्च्ति कर दी ! यह देखकर सारे राज्य में तहलका मच गया ! लेकिन अधिकांश जनता ने राजा की भरपूर सराहना की ! राज्य का कारोबार चलता रहा ,एक दिन अवसर पाकर साहूजी महाराज के एक ब्राह्मण मंत्री ने राजा से पूछ लिया की महाराज इस व्यवस्था में तो राजकाज के कार्य में गिरावट आ सकती है ,चुकी बहुत से लोग पढ़े लिखे नहीं हैं , इनसे बहुत सा काम नहीं होने वाला ? तब राजा ने कह की यदि इन्हें अवसर नहीं दिया जायेगा तो ये लोग ऐसे ही रहेंगे ,कभी भी पढ़ लिख नहीं पाएंगे ,चुकी इन्हें शास्त्रो में पढने लिखने से वर्जित रखा है ,तो कम से कम इन्हें काम में भागीदारी दे दिया है तो ये धीरे धीरे काम सीखकर योग्य तो होँगे अन्यथा ये और कमजोर होते जायेंगे ! उन्होने मंत्री को अपने घुडसाल यानि घोड़ो को बंधने वाले स्थान पर ले जहाँ सभी घोड़े अपनी अपनी जगह बंधे थे ! राजा ने कहा की इनका चारा लाओ एक जगह रख दो ,चारा रख दिया गया ,अब उन्होने कहा इन सब को अपनी जगह से छोड़ दो ,यही किया गया सभी घोड़े चारा पर टूट पड़े ,मजबूत घोड़े चारा पर कब्ज़ा कर बड़े मजे से खाने लगे छोटे मोटे ,कमजोर घोड़े अन्य मजबूत घोड़ो के पीछे चारे की आस में घुमने लगे ,यदि वे कुछ प्रयास भी करते लेकिन मजबूत घोड़े उन्हें चारे के पास फटकने नहीं दे रहे थे , यह नजारा दिखाकर राजा ने कह की अब इन्हें अपने अपने स्थान पर बांध दो ,यही किया गया ! महाराज ने कहा की जितना चारा है ,उनके स्थान में बाँट कर रख दो यही किया गया ! साहूजी महाराज ने कहा की देखो अब चारे के लिए कोई लड़ाई नहीं हो रही है सभी आराम से खा रहे हैं ! साहूजी महाराज के इसी दर्शन के कारन आज सबको अवसर मिल रहा है ,डाक्टर आंबेडकर ने भी साहू जी महाराज के आदर्शों का पालन करते हुए सविंधान में इस बात को मजबूती से रखने में अपना योगदान दिया ! उन परिस्थितियो कितना जरुरी था ,आज भी वंचितो को अवसर नहीं मिला तो उच्च वर्ग के लोग शासन प्रशासन में बड़े पदों पर आसीन है सब हिस्सा खा जायेंगे !आज भी देश की जनसँख्या के ९० प्रतिशत हिस्से को आरक्षन के नाम पर मात्र ४९% हिस्सा वह भी पूरी तरह नहीं मिल रहा है,इस व्यवस्था के समाप्त होने के पूर्व हमें शासन प्रशासन में पूर्ण भागीदारी के लिए संघर्ष कर अपने अधिकार हासिल करने के लिए जनचेतना पैदा कर लेना है ! नहीं तो हमारे लोगो खासकर पिछड़े वर्ग के लोग जानकारी के आभाव में ,मनुवादियो का साथ देकर अपने ही अधिकारो को समाप्त करने में लग जाते हैं !

Comments

Popular posts from this blog

गोंडी धर्म क्या है

गोंडीधर्मक्याहै गोंडीधर्मक्याहै(यहदूसरेधर्मोंसेकिनमायनोंमेंजुदाहै,इसकाआदर्शऔरदर्शनक्याहै)अक्सरइसतरहकेसवालपूछेजातेहैं।कईसवालसचमुचजिज्ञाशाकापुटलिएहोतेहैं

"मरकाम गोत्र के टोटम सम्बन्धी किवदन्ती"

मध्यप्रदेश के गोन्ड बहुल जिला और मध्य काल के गोन्डवाना राज अधिसत्ता ५२ गढ की राजधानी गढा मन्डला के गोन्ड समुदाय में अपने गोत्र के पेन(देव) सख्या और उस गोत्र को प्राप्त होने वाले टोटेम सम्बन्धी किवदन्तिया आज भी यदा कदा प्रचलित है । लगभग सभी प्रचलित प्रमुख गोत्रो की टोटेम से सम्बन्धित किवदन्ति आज भी बुजुर्गो से सुनी जा सकती है । ऐसे किवदन्तियो का सन्कलन और अध्ययन कर गोन्डवाना सन्सक्रति के गहरे रहस्य को जानने समझने मे जरूर सहायता मिल सकती है । अत् प्रस्तुत है मरकाम गोत्र से सम्बन्धित हमारे बुजुर्गो के माध्यम से सुनी कहानी ।
चिरान काल (पुरातन समय) की बात है हमारे प्रथम गुरू ने सभी सभी दानव,मानव समूहो को व्यवस्थित करने के लिये अपने तपोभूमि में आमंत्रित किया जिसमें सभी समूह आपस में एक दूसरे के प्रति कैसे प्रतिबद्धता रखे परस्पर सहयोग की भावना कैसे रहे , यह सोचकर पारी(पाडी) और सेरमी(सेडमी/ ्हेडमी) नात और जात या सगा और सोयरा के रूप मे समाज को व्यवस्थित करने के लिये आमन्त्रित किया ,दुनिया के अनेको जगहो से छोटे बडे देव, दानव ,मानव समूह गुरू के स्थान पर पहुचने लगे , कहानी मे यह भी सुनने को मिलता ह…

"जय बडादेव या जय बुढादेव"

"जय बडादेव या जय बुढादेव" साथियों काफी दिनों से इस विषय पर लिखने की इच्छा हो रही थी लेकिन किन्ही कारणों से नहीं लिख पा रहा था । हम हम सब मिलकर गोंडवाना के आन्दोलन को लक्ष्य तक पहुचाने में जी जान से जुटे हैं ! वहीं कभी कभी कुछ लोगों के प्रश्न या अकारण विवाद, कलम को रोक नहीं पाता । कुछ लोग अभी भी बडादेव, बुढादेव के संबंध में ,ये सही है, ये सही नहीं है या बडादेव कहो बुढादेव कहो, फडापेन कहो आदि बाते सामने लाते हैं । इस विषय में मेरा मत है कि बडादेव और बूढादेव अलग अलग परिस्थितियों में प्राशंगिक हैं । जैसे जय बुढादेव को ही ले लें गोंड तथा इनकी समस्त उपजातियों में प्रत्येक गोत्र की अपनी देव व्यवस्था है और प्रत्येक गोत्र समूह का अपना पेनकडा, खलिहान, बुढादेव स्थल साजा या सरई के पेड में है । इस स्थान में उस गोत्र परिवार के सभी सदस्य अपने परिवार के मृत जीव को अपने पुरखें के साथ मिलाने का प्रचलन है । याद रहे कि जिस गोत्र का स्थान होगा उसी गोत्र का व्यक्ति उसमें कुन्डा मिलाने की प्रक्रिया के माध्यम से शामिल किया जाता है, अन्य गोत्र के व्यक्ति को उसमें नहीं मिलाया जाता इससे स्पष्ट होता है …